विजय विक्रांत

हिन्दी राइटर्स गिल्ड एक प्रगतिशील पंजीकृत लाभ-निरपेक्ष संस्था है। प्रगतिशील परंपरा को कायम रखते हुए डॉ. शैलजा सक्सेना ने दोनों कवियों को आमन्त्रित किया की वह स्वयं अपनी पुस्तकों का लोकार्पण करें जो कि परम्परागत किसी अन्य प्रतिष्ठित व्यक्ति द्वारा किया जाता है। पुस्तकों के लोकार्पण के पश्चात कवियों को फूल की भेंट की बजाय गिल्ड के दो सदस्यों अरुण बर्मन और राज महेश्वरी ने पुस्तकें भेंट में दीं।