hindiwg@gmail.com
side-design

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

side-design
intro-image

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

जन्मः 19 मार्च,1949 , हरिपुर , जिला-सहारनपुर ।

प्रकाशित रचनाएँ: माटी,पानी और हवा ,अँजुरी भर आसीस, कुकडूँ कूँ, हुआ सवेरा, मैं घर लौटा, तुम सर्दी की धूप, बनजारा मन ( काव्य-संग्रह),मेरे सात जनम, माटी की नाव, बन्द कर लो द्वार(हाइकु-संग्रह), मिले किनारे (ताँका और चोका संग्रह संयुक्त रूप से डॉ हरदीप सन्धु के साथ), झरे हरसिंगार(ताँका-संग्रह), तीसरा पहर( ताँका , सेदोका , चोका ),धरती के आँसू (उपन्यास),दीपा,दूसरा सवेरा(लघु उपन्यास),असभ्य नगर(लघुकथा-संग्रह-दो संस्करण), खूँटी पर टँगी आत्मा(व्यंग्य-संग्रह-3 संस्करण), भाषा-चन्द्रिका (व्याकरण), लघुकथा का वर्त्तमान परिदृश्य, (लघुकथा -समालोचना), सह-अनुभूति एवं काव्य-शिल्प ( काव्य-समालोचना), हाइकु आदि काव्य-धारा( जापानी काव्यविधाओं की समालोचना),फुलिया और मुनिया(बालकथा हिन्दी और अंग्रेज़ी, अंग्रेज़ी संस्करण दो बार इटली के विश्व पुस्तक मेले में प्रदर्शित), राष्ट्रीय पुस्तक न्यास द्वारा हरियाली और पानी(बालकथा), गीड्-गदेड् ओन्डो: दः अ ( हरियाली और पानी का हो बोली में ),हरियार और द: अ: ( हरियाली और पानी का ‘असुरी’ बोली में) ,उड़िया, पंजाबी और गुजराती भाषा में अनुवाद) प्रकाशित, झरना, सोनमछरिया, कुआँ(पोस्टर बाल कविताएँ),रोचक बाल कथाएँ । लोकल कवि का चक्कर(2005 में आकाशवाणी जबलपुर से नाटक का प्रसारण)।‘ऊँचाई’ लघुकथा पर लघु फ़िल्म। नेपाली, पंजाबी,अंग्रेज़ी,उर्दू, मराठी, गुजराती,संस्कृत ,बांग्ला में अनूदित कुछ रचनाएँ।

अनुवादः राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के लिए 2 पुस्तकों का अंग्रेज़ी से हिन्दी में।

सम्पादनः सुकेश साहनी, डॉ.भावना कुँअर, डॉ.हरदीप सन्धु, डॉ.कविता भट्ट,और डॉ.ज्योत्स्ना शर्मा के साथ कुल 37 सम्पादित पुस्तकें। laghukatha.com (सुकेश साहनी के साथ लघुकथा की एकमात्र वेब साइट), www.hindihaiku.net तथा http://trivenni.blogspot.com के डॉ. हरदीप कौर सन्धु के साथ सहयोगी सम्पादक।

प्रसारणः रेडियो सीलोन,आकाशवाणी गुवाहाटी, रामपुर, नज़ीबाबाद , अम्बिकापुर एवं जबलपुर , दूरदर्शन हिसार, टैग टी.वी.और सी. एन.(कैनेडा )से।

केन्द्रीय विद्यालय के प्राचार्य-पद से सेवानिवृत्त), सम्प्रतिःस्वतन्त्र लेखन।

सम्पर्कः -रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

ई- मेलः rdkamboj@gmail.com

We'll never share your email with anyone else.