hindiwg@gmail.com
side-design

अरुणा भटनागर

side-design
intro-image

अरुणा भटनागर

श्रीमती अरुणा भटनागर जी का जन्म दिल्ली में हुआ और प्राथमिक शिक्षा हुई बनारस में । इसके पश्चात दिल्ली में इन्होंने बी ए की शिक्षा ग्रहण की और दिल्ली विश्वविद्यालय से एम् ए . किया । इसके पश्चात नाटकों में इनकी बहुत रुचि रही और 1957 से 1961 तक दिल्ली के रेडियो स्टेशन में नाटकों में भाग लिया | इसके बाद दिल्ली में रेडियो स्टेशन से 1959 में बच्चों के कार्यक्रम तथा समाचार प्रसारण का कार्य किया ।

1967 में ये कनाडा आयीं और यहां पर हिंदी के प्रचार प्रसार का कार्य किया ,ये हिंदी साहित्य सभा की संस्थापक सदस्य है और उसकी पूर्व अध्यक्षा भी रही हैं । भारतीय काउंसिलावास के पेनोरामा इंडिया की निदेशिका भी रही हैं । इन्होंने छोटी-छोटी कविताएं लिखी हैं और मंचों से सुनाई भी हैं | इनकी भाषा सरल, सहज और भावपूर्ण है । हिंदी साहित्य सभा की अध्यक्षा होने पर टोरंटो में हिंदी के कई कार्यक्रम प्रस्तुत किए और बाहर से आए हुए कवियों का कार्यक्रम किया | इनकी सबसे बड़ी उपलब्धि यही है कि इन्होंने कई हिंदी के कवियों को प्रतिष्ठित होने में सहायता दी हिंदी प्रेमियों को सक्रिय बनने के लिए प्रेरित किया है | हिंदी साहित्य सभा के अंतर्गत इन्होंने कई नाटकों में भी भाग लिया जैसे 'लो कर लो बात ' में इनकी प्रमुख भूमिका थी और बहुत अच्छा अभिनय भी किया| 'दूसरों के बच्चे 'नरेंद्र कोहली की कथा पर आधारित नाटक में भी भाग लिया | इस प्रकार और इन्होंने हिंदी के प्रचार व् प्रसार में इतनी मदद की ,कि हिंदी राइटर्स गिल्ड की ओर से इनको एक विशेष सम्मान भी दिया गया ।

We'll never share your email with anyone else.